How to grow interest in study in Hindi

चलो दोस्तों आज बात करते हैं कि क्या करें जिससे आपका मन books study का इधर लगा रहे आप पढ़ाई में अपना मन लगाए रखें आज बात करते हैं कुछ ऐसे चीजों पर जो आपकी हौसला बुलंद कर देगी.

Know Here How to grow interest in study in Hindi

  • पता है एक दिन एक आदमी रास्ते से जा रहा  कि अचानक देखता है कुछ बंदर उनका पीछा कर रहे हैं तो आदमी भागने लगा और बंदर उसे भगाने लगे डराने लगे कि अचानक से एक आवाज आई भागो मत डटकर सामना करो और आदमी रूक गया और पीछे मुड़कर खड़ा हो गया कुछ बंदर उन्हें डराने लगे पर आदमी नहीं डरा और वह आदमी रुक  गये  और बंदर को देखने लगा तो कुछ बंदर रुक गए और कुछ बंदर आदमी को डराने लगे आदमी भी उनका सामना करने लगा तो बंदर सब चले गये ।पता है वह कौन थे? स्वामी विवेकानंद थे|
  • यह घटना स्वामी विवेकानंद के साथ घटा था |तब से स्वामी विवेकानंद ने ठान लिए थे की किसी चीज को डर के नहीं डट कर किया जाता है|और स्वामी विवेकानंद सफल होने का सबसे बड़ा lesson सीख लिया|
  • जितना हम अपनी कमजोरियों से भागेंगे उतना हमें कमजोरियां भगाएगी ठान लो अपनी कमजोरियों को हराने के लिए  तो कमजोरियां अपने आप छोड़ कर चली जाएगी जैसे वह बंदर चले गए दोस्तों हमारे साथ भी यही हो रहा है|दोस्तों हमारे साथ भी यही हो रहा है |पढ़ाई से बचते रहते हैं, कि हमारे पढ़ाई में हमारे मन नहीं लगता है||मैं  नहीं पढ़ सक था |
  • हम  बोर हो जाते हैं |मैं पढ़ाई में अच्छा नहीं हूं |इन सब बातें हमारे  कमजोरियां हैं अगर हम ऐसे ही अपनी कमजोरियों से भागते रहेंगे तो उन बंदरों  की तरह  कभी पीछा छुड़ा नहीं पाएंगे| पर जिस दिन हम थान लेंगे की अब बस बहुत हुआ मैं अपने सारे कमजोरियों को हराकर रहूंगा तब आप देखना आप की कमजोरियां जो आपको बहुत बड़ी लग रही थी| उनकी कोई औकात नहीं रह जाएगी आपके सामने उन बंदरों के जैसे कमजोरियां भी आपको छोड़कर चली जाएगी| जब भी आप यह बोलते हो यह सोचते हो कि पढ़ने को मन नहीं कर रहा है मुझे कुछ याद नहीं रहता मुझे पढ़ाई बहुत बोर लगती है| तो यह परेशानी अपने लाइफ में और ज्यादा बढ़ा देते हैं|यह स्वामी विवेकानंद जी का कहना है|
  • Ummul Kher नाम की एक लड़की है, जो अपने पहले ही atem में ISA की ऑफिसर बन चुकी है| वह  इतनी कमजोर है कि उनकी हड्डियां 20 बार फैक्चर हो चुकी है एक बार गिर जाए तो उनकी हड्डियां फैक्चर हो जाती है| वह दुनिया के सबसे कठिन परीक्षा UPSC का परीक्षा पास कर चुकी है| और आज आईएसए की ऑफिसर है|
  • उसकी सफलता की राज यह है, कि वह अपनी कमजोरियों को सामने आने नहीं दिया अपनी कमजोरियों को डटकर सामना की और आज जो सफलता की और है तो कमजोरियां को पास आने मत दो उसे डटकर सामना |तो सफलता आपके कदम चूमेगी|
  • आप अपना गोल को अचीव करने के लिए अपना गोल को फिक्स करिए और ठान लीजिए मुझे यह करना है मुझे यह बनना है| ठान लीजिए सब कुछ कर सकेंगे|

Also read-How to write fast in exam

Updated: March 10, 2018 — 4:19 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Hussain Gi Technical © 2018 Frontier Theme